आज फिर अत्याचारी कंस का बध करने को जन्म लेंगे कन्हाई और घर घर बजेगी बधाई

0
77

कागा न्यूज -कौशल सविता
कानपुर आज का दिन हर कृष्ण प्रेमी के लिए विशेष महत्व रखता है। कृष्णजन्माष्टमी भगवान श्री कृष्ण जो की विष्णु के आठवे अवतार थे उनका जनमोत्सव आज सभी भक्त बड़े ही धूम धाम से मनाते। योगेश्वर कृष्ण के भगवद्गीता के उपदेश अनादि काल से जनमानस के लिए जीवन दर्शन प्रस्तुत करते रहे हैं। जन्माष्टमी को भारत में हीं नहीं बल्कि विदेशों में बसे भारतीय भी पूरी आस्था व उल्लास से मनाते हैं। श्रीकृष्ण ने अपना अवतार भाद्रपद माह की कृष्ण पक्ष की अष्टमी को मध्यरात्रि को अत्याचारी कंस का विनाश करने के लिए मथुरा में जन्म लिया। इसलिये भगवान स्वयं इस दिन पृथ्वी पर अवतरित हुए थे अत: इस दिन को कृष्ण जन्माष्टमी के रूप में मनाते हैं। इस जन्मोत्सव को श्रीकृष्ण जन्माष्टमी के मौके पर मथुरा नगरी भक्ति के रंगों से सराबोर हो उठती।
भगवान श्रीकृष्ण जन्माष्टमी के पावन मौके पर कान्हा की मनमोहक छवि को देखने के लिए दूर दूर से श्रद्धालु आज के दिन मथुरा पहुंचते हैं। श्रीकृष्ण जन्मोत्सव पर मथुरा ही नहीं बल्कि पूरा देश कृष्णमय हो जाता है। इस अवसर पर मंदिरों और घर को खास तौर पर सजाया जाता है। ज्न्माष्टमी में स्त्री-पुरुष बारह बजे तक व्रत रखते हैं। इस दिन मंदिरों में झांकियां सजाई जाती है और भगवान कृष्ण को झूला झुलाया जाता है और जगह जगह रासलीला का सभी भक्त आयोजन करते है।
कृष् का अर्थ है आकर्षित करना और ण का अर्थ है परमानंद या पूर्ण मोक्ष।
कृष्ण का अर्थ है, वह जो परमानंद या पूर्ण मोक्ष की ओर आकर्षित करता है, वही कृष्ण है

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here